अप्रैल 15, 2011

आईना पूछता हैं मुझसे ये सवाल



आईना पूछता हैं मुझसे ये सवाल
क्यूँ है तेरे चेहरे का ये बुरा हाल,

सर्दी में भी ये बदन जलता है,
रंग जहाँ का देख के बदलता है,

जो नज़र नहीं आता किसी सू 
मेरे अन्दर ये कौन चलता है,

बदगुमानी बदसलूकी करती है
लाचारी साफ-साफ  झलकती है,

चश्मदीदे गवाही को गलत जानिये
आईना  झूठा है, न इसे सच मानिए,

जो हासिल है उसमे ही जीया कीजिये
शराबे - ए - जिंदगी को पीया कीजिये,

11 टिप्‍पणियां:

  1. बदगुमानी बदसलूकी करती है
    लाचारी साफ-साफ झलकती है,

    चश्मदीदे गवाही को गलत जानिये
    आईना झूठा है, न इसे सच मानिए,

    जो हासिल है उसमे ही जीया कीजिये
    शराबे - ए - जिंदगी को पीया कीजिये,
    wah kya baat hai......
    bahut badiya.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ सवालों के जवाब नही मिला करते……………बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहना मुश्किल है कि कौन सा शेर उम्दा है...?
    सब एक से बढ़ कर एक हैं सब !
    हर शेर का एहसास कुछ अलग सा बयां करता है !!


    "जो हासिल है उसमें ही जिया कीजिये
    शराब-ए-जिन्दगी को पिया कीजिये !!"


    कहाँ ऐसा हो पता है जिंदगी में ..
    लोगों की नज़र हमेशा
    दूसरे के गिलास पर ही लगी रहती हैं !
    ज़िंदगी हमें क्या-क्या रंग दिखाती है..
    लेकिन रंगीनी हमें दूसरे की
    तस्वीर में ही नज़र आती है..!!
    अपनी बदरंग तस्वीर हम छुपाते हैं
    और दूसरों की तस्वीर से खरोंच के
    रंग हम निकालते हैं...!!
    अपने अगल-बगल देखिएगा तो बहुतेरे
    लोग मिल जायेंगे इस तरह के..!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अंसारी साहिब ,बहुत खूब.

    आईना भी सच बोलता है जनाब,
    ज़रा दिल की नज़र से देखिये तो.

    सलाम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut khoobsurat or sachai se bhari rachna hai........I liked it very much :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी लोगों का तहेदिल से शुक्रिया यहाँ तक आने का और पोस्ट को पसंद करने का |

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंसारी साहब , चश्मदीदे-गवाही को बिलकुल सच मानिये . आप बेहतरीन गजल पढ़ाते हैं यकीं मानिए ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन गजल ! आईना एक है, सवाल भी एक है तो 'हैं' की जगह 'है' कर लीजिए.

    उत्तर देंहटाएं
  9. जो नजर नहीं आता किसी सू
    मेरे अंदर ये कौन चलता है

    बहुत सुंदर शेर....

    उत्तर देंहटाएं
  10. जो हासिल है उसे पीया कीजिए
    शराब-ए-ज़िंदगी को जीया कीजिए
    ..वाह!

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...