अगस्त 05, 2013

करम


बहुत सख्त हो कर भी टूट जाता है दरख़्त 
बचता है वही जो अन्दर से कुछ नरम हो, 

कोई किसी का दुश्मन न रहे जहाँ में  
काश के दुनिया में एक ऐसा धरम हो, 

मिलेगी तुझे भी पाक सुराही से शराब 
शर्त है ये मगर की प्यास तेरी चरम हो,

बच जाता है वो शख्स गुनाहों से अक्सर 
बाकी जिसके अन्दर थोड़ी सी शरम हो,

अपनी तलाश निकालती है गौतम*को बाहर 
दुनिया की ऐश से भरा चाहें उसका हरम हो, 

सवालिया निशान लगते हैं तेरे वजूद पर भी 
दिखा अपना जलवा दूर दुनिया का भरम हो, 

मंजिल खुद तुम्हें ढूँढ लेगी एक रोज़  'इमरान' 
तेरे मौला का बस एक तुझ पर जो करम हो, 

----------------------------------------------------------
*गौतम* - यहाँ आशय गौतम बुद्ध से है । 

26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सार्थक और ख़ूबसूरत ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 07/08/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया यशोदा जी हमारे ब्लॉग की पोस्ट यहाँ शामिल करने का |

      हटाएं
  3. शर्म के मारे अब बचे कितने !
    ग़ज़ल अच्छी लगी !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कम ही सही मगर हैं तो अभी भी ……शुक्रिया ।

      हटाएं
  4. "रोशनी गर खुदा को हो मंजूर
    आंधीयों में चिराग जलते है"
    खुदा गवाह है... :))

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खुबसूरत ग़ज़ल !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर और सच्चे शब्द इमरान भाई. बेहतरीन संदेशप्रद ग़ज़ल बनी है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर जज्बात..उसी का करम चाहिए और बाकी सब हो जाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुद पाने की ललक ऐसी ही होती है..... सुंदर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह ... बेहतरीन गज़ल ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब ... हर शेर अपने मतलब को स्थापित कर जाता है ... स्पष्ट बात को रखता हुआ हर अशआर ... मज़ा आ गया इमरान जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर और नेक अहसासात !!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. ईद का इससे खुबसूरत तोहफ़ा और क्या हो सकता है ? शुक्रिया कुबूल करें... मुबारबाद भी..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बच जाता है वो शख्स गुनाहों से अक्सर
    बाकी जिसके अंदर थोड़ी सी शर्म हो....!

    बहुत सही कहा...
    लेकिन इंसान बाज नहीं आता...!
    न गुनाहों से तौबा...
    न बची है शर्म....!
    तो क्या करें हम.....??

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...