नवंबर 30, 2013

याद



रात फिर आयी थी याद तेरी 
रोती रही, गिड़गिड़ाती रही 
हिचकियों की आवाज़ें 
मेरे कानों में गूँजती रही   
ज़ेहन की देहरी से लगी तेरी याद 
रात भर सिसकती रही, 

अरसा गुज़र गया है
उस वक़्त को बीते हुए,
पर आज भी तेरी याद 
मेरा पीछा नहीं छोड़ती,   

जब भीड़ में होता हूँ, 
तो ये तनहा कर देती है, 
जब तनहा हूँ तो 
गुज़रे लम्हों का एक 
मज़मा सा लगा देती है,

और फिर मुझे उसी अतल
गहराई में धकेल देती है 
जहाँ अतीत और वर्तमान
के बीच सब धुंधला सा जाता है,

और मैं गुमराह राही सा अनजान 
ये सोच ही नहीं पाता कि 
कौन सा रास्ता अतीत के 
काले अंधेरों में जाकर गुम हो जाता है
और कौन सा वर्तमान के उजियारे में,  

तंग आ गया हूँ अब मैं  
इसकी पिघला देने वाली 
मनुहारों से बचने के लिए, 
अपने ज़ेहन कि कोठरी के 
दरवाज़े मज़बूती से बंद कर दिए,

रात फिर आयी थी याद तेरी 
रोती रही, गिड़गिड़ाती रही 
हिचकियों की आवाज़ें 
मेरे कानों में गूँजती रही   
ज़ेहन की देहरी से लगी तेरी याद 
रात भर सिसकती रही, 

© इमरान अंसारी


21 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत रचना......!!
    बीते दिनों की यादें जेहन में घर बना लेते हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर उत्कृष्ट रचना ....!
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मर्मस्पर्शी...यादों का सिलसिला नज़्म बन के उतरा...सुंदर अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो भीड़ में तनहा क्र दे और तनहाई में मजमा लगा दे वही तो इश्क का जादू है...कोई कोई ही इसकी कद्र कर पाता है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने अनीता जी शुक्रिया |

      हटाएं
  5. यह तो कुछ इस गजल की तरह बात हो गयी शायद सुनी हो आपने ..:-) मेरी पसंदीदा गज़लों में से एक है
    शाम ढले इस सुने घर में, मेला लगता है
    हम भी पागल हो जाएंगे ऐसा लगता है
    दीवारों से मिलकर रोना .....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ , सुनी है खूबसूरत है शुक्रिया आपका |

      हटाएं
  6. ये मुई यादें ..न खुद चैन से जीती है और न ही जीने देती है..बस एक लम्बी आहहहह ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा अमृता जी शुक्रिया आपका |

      हटाएं
  7. बहुत ख़ूबसूरत एवं भावपूर्ण प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  8. यादें है ..जाती नहीं...अगर बंधन स्नेह का हो. बहुत बढ़िया रचना इमरान भाई. बिलकुल जज़्बात में डूबी हुई.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया निहार भाई |

      हटाएं
  9. जब उनकी याद है तो तन्हाई कैसी ... यादें सहारा हैं जीवन का ... बंधन है सांसों का ...
    लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. जाने अनजाने, वे भूलें , कुछ पछताए, कुछ रोये थे !
    हमने ही ,नज़रें फेरीं थीं , उसने तो, वफादारी की थी !

    उत्तर देंहटाएं
  11. उत्तर
    1. आपके ब्लॉग पर आने अपनी कीमती टिप्पणी से हौसलाअफ़ज़ाई करने का तहेदिल से शुक्रिया |

      हटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...