अप्रैल 04, 2014

मीठा सा इश्क

दोस्तों,

सबसे पहले तो आप सबसे माफ़ी चाहूँगा । पिछले दिनों अति व्यस्तता के चलते स्वयं अपने और आप सभी के ब्लॉग तक आना नहीं हो पाया | सोशल मीडिया कि तस्वीर पिछले कुछ समय से काफी बदल गई है फेसबुक जैसे त्वरित प्रतिक्रिया वाले प्लेटफार्म पर आवाजाही बढ़ी है तो ब्लॉगजगत में कमी आई है । पर इन सबके बावजूद ब्लॉग का अपना नशा है...... जो ठहराव और इत्मीनान से पोस्ट पढ़ कर ईमानदाराना टिप्पणियों से होकर लेखक और पाठक को जोड़ता है । हरसंभव प्रयास रहेगा कि जल्द ही समय निकल कर आप सबके ब्लॉग तक पहुँच सकूँ और कुछ बेहतर और नवीन पढ़ने को मिल सके । आज ये एक छोटी सी नज़्म पेश है आप सबके लिए :-


तेरे तसव्वुर में डूबी
ख़ुमार से भरी आँखे 
कुछ ख्वाब बुनती हैं, 

जिनकी तासीर लबों पर 
चाशनी सी उतरती है,

क़तरा-क़तरा रूह तक 
मीठा सा इश्क बहता है,
----------------------------------------------------
इसके आलावा  'जनसेवा मेल, झाँसी' में पहली बार मेरी कृति को शामिल किया गया है । जिसके लिए दिल से शुक्रिया । अपने लिखे को प्रकाशित हुए देखने की ख़ुशी अलग ही होती है और वो भी पहली बार तो दोस्तों आप सब भी शरीक हो ।


12 टिप्‍पणियां:

  1. तुम्हारा लिखा बहुत उम्दा होता है ..... सभी बातों के लिए बहुत बहुत बधाई ....
    खुदा की नेमत तुम पर हमेशा बनी रहे
    हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना शनिवार 05 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमारे ब्लॉग की पोस्ट को यहाँ शामिल करने का बहुत बहुत शुक्रिया |

      हटाएं
  3. कतरा कतरा रूह तक बहता मीठा इश्क़ ....
    बहुत खूब !
    रचना प्रकाशन की बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  4. भई! हमें तो रश्क हो रहा है आपसे इसलिए कुछ नहीं कहेगे..

    उत्तर देंहटाएं
  5. खूबसूरत नज़्म ... रूह तक हर कतरा पहुँचता है मीठे इश्क का ...
    गाल के प्रकाशा पर ढेरों बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह... बहुत उम्दा...बहुत बहुत बधाई...
    ब्लॉग की जगह फेसबुक कभी नहीं ले सकता.....पुनः आने पर स्वागत...
    नयी पोस्ट@भूली हुई यादों

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...